Top 10+ मेघालय में घूमने की जगह – Tourist Places in Meghalaya

5/5 - (12 votes)

Tourist Places in Meghalaya:- मेघालय एक बहुत ही खूबसूरत और आकर्षण प्रदेश है, जहां आपको काई तरह के घूमने के स्थान मिलेंगे। मेघालय के प्रमुख शहर शिलांग, जिसे “पूर्व का स्कॉटलैंड” के नाम से भी जाना जाता है, एक शानदार पर्यटन स्थल है। यहां के मौसम, प्रकृति, संस्कृति, खाना पीना और ऐतिहासिक जगाएं आपको खुश कर देंगे। शिलॉन्ग का मौसम साल भर खूबसूरत रहता है, लेकिन खास कर के साल के मौसम के दौर यहां का नजारा और भी रोमांस होता है। चेरापूंजी और मौसीनराम, जहां दुनिया का सबसे अधिक वर्षा होता है, भी मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। यहां आप काई तरह के झरने और पहाड़ियों के खूबसूरत नज़ारे देख सकते हैं।

मेघालय का भोजन भी बहुत ही स्वादिष्ट है। यहां के व्यंजन, जैसे की जादोह, तुंगरीबाई, पुखलीन, दोहन और मोमोज, आपको पसंद आएंगे। इसके अलावा, यहां के ऐतिहासिक जगाएं, जैसे की शिलॉन्ग पीक, वार्ड्स लेक, डॉन बॉस्को म्यूजियम, एलिफेंट फॉल्स और डावकी, आपको मोहित कर देंगे।

इस्लीये, मेघालय एक बहुत ही सौंदर्य और आकर्षण सहर है, जहां आप को काफी सुविधाएं और बेहतर पर्यटन स्थल मिलेंगे।

Meghalaya, Tourist places in meghalaya

मेघालय में घूमने की जगह – Tourist Places in Meghalaya

मेघालय राज्य भारत में स्थित एक शहर है। यहाँ पर कई ऐसे धार्मिक और एतेहासिक पर्यटन स्थल है जिसे देखने काफी अधिक संख्या में लोग देश एवं विदेश से आते हैं | मेघालय में वैसे तो बहुत सारे पर्यटन स्थल (Meghalaya Tourist Places) है लेकिंग उनमे से प्रमुख पर्यटन स्थल जो लोगो द्वारा बहुत पसंद किया जाता है वैसे पर्यटन स्थल (Places to visit in Meghalaya) के बारे में हम इस आर्टिकल में जानकारी देंगे तो चलिए अपने इस आर्टिकल में जानकारी की ओर आगे बढते हैं :- 

इसे भी पढ़े:- ऊटी एक खुबसुरत जगह जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

Table of Contents

चेरापूंजी – Cherrapunji, Meghalaya

चेरापूंजी, मेघालय का एक खूबसूरत शहर है जो भारत के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में स्थित है। यहां की जड़ें आब्र-आब्रां के कारण बहुत गहरी होती हैं जो इस स्थान को भारत में सबसे अधिक वर्षा वाले स्थानों में से एक बनाती है। चेरापूंजी अपनी बेमिसाल खूबसूरती के लिए जाना जाता है। यहां आप विभिन्न प्रकार के फूल, जंगल और पौधों के बीच घूम सकते हैं। यह एक ऐसा स्थान है जहां वर्षा वाले मौसम के दौरान प्रकृति का नजारा बेहद रोमांचक होता है। इसके अलावा, चेरापूंजी में दो कारणों से नाम सुना जाता है। पहला कारण यह है कि यहां पर भारत में सबसे अधिक वर्षा होती है जो इसे भारत में सबसे वर्षा वाला स्थान बनाता है। दूसरा कारण यह है कि यहां पर आप बारिश के बाद बहुत सारी जलप्रपातों के नजारे देख सकते हैं जो बहुत ही खूबसूरत होते हैं।

इसे भी पढ़े:- मनाली एक खुबसुरत जगह जहाँ जरुर जाना चाहिए

मौस्य्न्राम – Mawsynram, Meghalaya

मौस्य्न्राम का नाम दो कारणों से सुना जाता है। पहला कारण यह है कि यह भारत में सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान है। यह एक ऐसा स्थान है जहां वर्षा वाले मौसम के दौरान प्रकृति का नजारा बेहद रोमांचक होता है। इसके अलावा, मौस्य्न्राम में आप बारिश के बाद बहुत सारी जलप्रपातों के नजारे देख सकते हैं जो बहुत ही खूबसूरत होते हैं। मौस्य्न्राम के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में आप मौस्य्न्राम जलप्रपात, सैत्याड्रायव की गुफा, जैविक बाग, डॉन्गर झरना और मामलदोह झरना जैसे स्थानों का दौरा कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े :- द्वारका एक धार्मिक एवं लोकप्रिय पर्यटन स्थल

तुरा सिटी – Tura City, Meghalaya

तुरा एक ऐसा स्थान है जहां प्राकृतिक सौंदर्य, स्थानीय ऐतिहासिक महत्व और विविधता का मेल दिखता है। तुरा शहर के आसपास आप प्राकृतिक सौंदर्य का लुफ्त उठा सकते हैं। शहर के पास वेस्ट गारो हिल्स राष्ट्रीय उद्यान हैं, जहां आप जंगली जानवरों और वनस्पतियों के साथ समय बिता सकते हैं। यहां आप बिजली ताड़ के जंगल, जंगली हाथी, जंगली बाघ, साँभर, बारहसिंगा जैसे वन्य जानवरों को भी देख सकते हैं। तुरा शहर में कुछ ऐतिहासिक स्थलों का भी दौरा किया जा सकता है। इस शहर में श्री नाकाटे टंग बाजार, नोकपारा, बालुग्राम बाजार और रोंगबोक बाजार जैसे विभिन्न बाजार हैं, जहां आप शॉपिंग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े :- केरल में सुन्दर एवं आकर्षक पर्यटन स्थल

शिलांग – Shillong, Meghalaya

शिलांग मेघालय के पूर्वी क्षेत्र में स्थित एक छोटा सा शहर है। यह शहर उन शहरों में से एक है जो उत्तर पूर्वी भारत में आपके दिल को छू जाएगा। यह शहर मेघालय की राजधानी है | शिलांग शहर के आसपास आप प्राकृतिक सौंदर्य का लुफ्त उठा सकते हैं। यहां आप मेघालय के प्राकृतिक स्थानों का आनंद ले सकते हैं, जैसे कि चेरापुंजी, मावसिंराम, शिलोंग पीक और नोकलेलकाई फॉल्स जैसे ढेर सारे स्थान हैं। शिलांग शहर में कुछ ऐतिहासिक स्थलों का भी दौरा किया जा सकता है। इस शहर में श्री उमामहेश्वर मंदिर, दों बोस्को चर्च, वार मेमोरियल, डॉन बोस्कोंग दोरबर जैसे स्थान हैं, जो आपके दिल को छू जाएंगे।

इसे भी पढ़े :- हरिद्वार के प्रमुख पर्यटन स्थल कि पुरी जानकारी

नोंग्पोह – Nongpoh, Meghalaya

नोंग्पोह मेघालय के केंद्रीय क्षेत्र में स्थित एक छोटा सा शहर है। यह शहर मेघालय की राजधानी शिलांग से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां आपको प्राकृतिक सुंदरता, स्थानीय फूड और कुछ ऐतिहासिक स्थलों का भी आनंद मिलेगा। यहां आप मेघालय के प्राकृतिक स्थानों का आनंद ले सकते हैं, जैसे कि बारापानी झील, उमीयम झील, द्वारा कहाँ पानी फॉल्स जैसे स्थान हैं। नोंग्पोह शहर में कुछ ऐतिहासिक स्थलों का भी दौरा किया जा सकता है। इस शहर में श्री जंतिया देवालय, बारापानी प्राकृतिक संरक्षित क्षेत्र, उमीयम प्राकृतिक संरक्षित क्षेत्र जैसे स्थान हैं, जो आपके दिल को छू जाएंगे।

इसे भी पढ़े :- शिमला एक खुबसुरत शहर जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

जोवाई सिटी – Jowai City, Meghalaya

जोवाई मेघालय का एक छोटा सा शहर है जो बांग्लादेश की सीमा से लगभग 64 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह शहर अन्य मेघालय के शहरों की तुलना में कम विकसित है, लेकिन यहाँ आपको कुछ ऐसी चीजें मिलती हैं जो अन्य शहरों में नहीं मिलती हैं। यहाँ आप प्राकृतिक वातावरण का आनंद ले सकते हैं, जैसे कि बारापानी झील, उमीयम झील, द्वारा कहाँ पानी फॉल्स जैसे स्थान हैं। जोवाई शहर में भी कुछ ऐतिहासिक स्थल हैं जो दर्शनीय होते हैं। इस शहर में बारा पाथार जैसे स्थान हैं जो भारतीय राष्ट्रीय संग्रहालय में भी शामिल हैं। 

इसे भी पढ़े :- अजमेर एक खुबसुरत शहर जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

बाघमारा – Baghmara, Meghalaya 

बाघमारा मेघालय का एक छोटा सा शहर है जो बांग्लादेश की सीमा के पास स्थित है। यहाँ आप प्राकृतिक सौंदर्य का लुफ्त उठा सकते हैं यहाँ आपको कई स्थान मिलेंगे, जैसे कि बाघमारा झील, बाघमारा वन्यजीव अभयारण्य, नोक्रेख पार्क, सोमेश्वर पार्क आदि। बाघमारा झील में जाकर आप एक शानदार प्राकृतिक वातावरण का आनंद ले सकते हैं। यहाँ आप नौका यात्रा कर सकते हैं और झील का आनंद ले सकते हैं। बाघमारा वन्यजीव अभयारण्य आपको कुछ अद्भुत जानवरों को देखने का मौका देता है। नोक्रेख पार्क आपको कुछ शानदार जलप्रपातों को देखने का मौका देता है। यहाँ आप एक शानदार वातावरण में घूम सकते हैं और अपनी मनोरंजन की श्रृंखला का आनंद ले सकते हैं।

इसे भी पढ़े :- आलाप्पुझा एक खुबसुरत शहर जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

विलियमनगर – Williamnagar, Meghalaya

विलियमनगर मेघालय के गारो हिल्स जिले में स्थित है और मेघालय के बाकी हिस्सों से थोड़ा अलग नज़र आता है। यहाँ पर आप शानदार प्राकृतिक सौंदर्य देख सकते हैं, विलियमनगर एक छोटा शहर है जो विभिन्न प्राकृतिक स्थलों से घिरा हुआ है। यहाँ आपको कई जगहों का दौरा करना चाहिए, जैसे कि सोनडेम ब्रिज, सिमसागर झील, आमे दुर्ग, दोकोप जलप्रपात आदि। सोनडेम ब्रिज एक लंबा पुल है जो सांगर नदी पर बना है। इस पुल का निर्माण पुराने भारत के ब्रिटिश राज समय में हुआ था। सिमसागर झील एक आकर्षक स्थान है जहाँ आप प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद ले सकते हैं। आमे दुर्ग मेघालय के इतिहास से जुड़ा हुआ है और यहाँ आप मेघालय के वैभवपूर्ण इतिहास को जान सकते हैं। दोकोप जलप्रपात एक और स्थान है जो आपको अपनी सुंदरता के लिए जाना चाहिए।

इसे भी पढ़े :- सिक्किम एक खुबसुरत पहाडो का शहर जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

मॉसमाई गुफा – Mawsmai Cave, Meghalaya

मॉसमाई गुफा, मेघालय के छेरापुंजी शहर से कुछ किलोमीटर दूर स्थित है। यह एक शानदार प्राकृतिक स्थान है जो आपको अपनी सुंदरता के लिए जाना चाहिए। मॉसमाई गुफा के अंदर जाने के लिए आपको ऊँचाई पर चढ़ने की आवश्यकता होती है। इस गुफा में आपको एक अद्भुत प्राकृतिक वातावरण मिलता है, जहाँ आप अंधेरे में घुस सकते हैं और अलग-अलग प्रकार के छिपे हुए रहस्यों को खोज सकते हैं। मॉसमाई गुफा में जाने से पहले आपको अपने चप्पलों का इस्तेमाल करना होगा, क्योंकि यहाँ पर बहुत सारा पानी होता है। आपको बाएं हाथ से ऊँचे होते हुए गुफा में दाखिल होना होगा। यहाँ पर आपको विभिन्न स्थलों का दौरा करना होगा, जैसे कि सांपों का नेस्ट, गुहारू, छोटे जलप्रपात आदि।

नोहकालिकाई जलप्रपात – Nohkalikai Waterfalls, Meghalaya

नोहकालिकाई जलप्रपात मेघालय के छेरापुंजी शहर से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह जलप्रपात दुनिया का सबसे ऊँचा जलप्रपात है जो 340 मीटर की ऊँचाई से नीचे गिरता है। नोहकालिकाई जलप्रपात की खूबसूरती को देखकर आपका मन खुश हो जाएगा। जलप्रपात के नीचे स्थित पानी की झील में अलग-अलग रंगों का पानी नजर आता है। इसे देखने के लिए सबसे अच्छा समय सुबह के समय होता है जब बादल ऊपर से गुजरते हुए जलप्रपात के नीचे घाटों की एक दीवार की तरह उतरते हैं। नोहकालिकाई जलप्रपात के पास एक झील भी है जिसमें आप तैरने का मजा ले सकते हैं। इसके अलावा, आसपास के पहाड़ों में आप ट्रेकिंग कर सकते हैं और प्रकृति का मजा ले सकते हैं।

दवकी झील – Dawki lake, Meghalaya

दवकी झील मेघालय के उत्तरी प्रान्त में स्थित है और भारत और बांग्लादेश की सीमा से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह एक प्राकृतिक झील है जो बहुत ही शानदार है और पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। यह झील काफी गहरा होता है और उसका रंग नीला होता है। दौकी झील की सैर बहुत ही रोमांचक और खूबसूरत होती है। यह झील पानी के साथ घाटियों और पहाड़ों से घिरा हुआ है 

 हाथी झरने – Elephant Falls, Meghalaya

हाथी झरने मेघालय के शिलांग शहर से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह झरना बहुत ही शानदार है और पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। यह झरना दो भागों में बंटा हुआ है जो निचले तल से लगभग 70 फीट ऊंचा है। यह झरना इसके विशेष नाम के बारे में जाना जाता है, क्योंकि इसकी जलप्रपात जैसे हाथियों की दुनिया के जीवों को याद दिलाते हैं। झरने के साथ जुड़े वातावरण भी बहुत खूबसूरत होता है। हाथी झरने का दौरा करने के दौरान, आपको एक खूबसूरत नेचुर वॉक भी देखने को मिलता है, जिसमें आप झरने के साथ समूचे वातावरण का लुफ्त उठा सकते हैं। हाथी झरने के आसपास बहुत सारी स्थानों पर पिकनिक करने के लिए समर्थ बेठ भी हैं, जो इस स्थान को आरामदायक और मनोरंजक बनाते हैं।

जैन्तिया हिल्स – Jaintia Hills, Meghalaya

मेघालय एक ऐसा राज्य है जो भारत के पूर्वी तट से उठता हुआ उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित है। यहाँ पर एक बहुत ही खूबसूरत स्थान है जिसका नाम जैन्तिया हिल्स है। इस स्थान का नाम इसके मूल निवासियों के नाम पर रखा गया है जो जैन्तिया नाम से जाने जाते हैं। जैन्तिया हिल्स एक ऐसी जगह है जो इसकी सुंदरता और रोमांचक वातावरण के लिए जानी जाती है। यहाँ पर कई धार्मिक स्थल और ऐतिहासिक स्थल हैं जो आपको जरूर देखने चाहिए। यहाँ पर एक बहुत ही रोमांचक जंगल भी है जो विभिन्न जानवरों के लिए घर है। यह जंगल प्राकृतिक रूप से समृद्ध है और इसमें अनेक प्रकार के पेड़, फूल और पशु-पक्षी देखे जा सकते हैं। जैन्तिया हिल्स में कई नदियां और झीलें भी हैं जो इस स्थान को एक आकर्षक पर्यटक स्थल बनाते हैं। यहाँ पर ट्रेकिंग का भी अच्छा स्कोप है।

उमियाम झील – Umiam Lake, Meghalaya

उमियाम झील मेघालय के शिलॉन्ग जिले में स्थित है और यह राज्य के सबसे बड़े झीलों में से एक है। यहाँ पर ताजा हवा और सुंदरता के साथ-साथ अनेक पर्यटकों को आकर्षित करता है। उमियाम झील का नाम इसके नजदीकी गांव उमियाम से प्राप्त हुआ है। इस झील को बारा ब्रह्मपुत्रा नदी के उपनदी उमइग नदी से जोड़ता हुआ बनाया गया है। यह झील पानी के खुबसूरत रंगों के साथ-साथ चारों ओर के वनों के नजारों के लिए भी जाना जाता है। उमियाम झील जाने के लिए सबसे अच्छा समय नवंबर से फरवरी है। इस समय इस झील का वास्तविक रूप से असली सुंदरता पता चलती है। जब यहाँ पर समुद्र तल से ऊँची ऊँची पहाड़ियों के साथ-साथ बादल और छोटी छोटी नदियों का नजारा होता है।

कायलांग रॉक – Kyllang Rock, Meghalaya

मेघालय एक ऐसा राज्य है जो अपनी ताजगी और सुंदरता के लिए जाना जाता है। इस राज्य में कई सुंदर स्थान हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। उनमें से एक है कायलांग रॉक, जो कि एक रोमांचक जगह है। कायलांग रॉक मेघालय के शिलॉन्ग जिले में स्थित है और यह उच्च पहाड़ों के बीच में एक बड़ी पत्थर की चोटी पर बना हुआ है। यह रॉक काफी ऊँचा होता है और यहाँ से पूरा शिलॉन्ग देखा जा सकता है। कायलांग रॉक जाने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मई है। इस समय यहाँ का मौसम बहुत शानदार होता है और पूरी चोटी पर सैर करना बहुत आसान होता है। कायलांग रॉक को स्थानीय लोग नेचों फ़ेडे नाम से जानते हैं। इस रॉक पर चढ़ने के लिए कई लोगों को विशेष अनुमति की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, यहाँ पर कई रोमांचक गतिविधियां भी होती हैं |

नोहसंगिथियांग जलप्रपात – Nohsngithiang Falls, Meghlaya

नोहसंगिथियांग जलप्रपात, जिसे सात बहनें जलप्रपात भी कहते हैं, मेघालय के ईस्ट खासी हिल्स जिले में स्थित एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है। इस जलप्रपात का नाम सात धाराओं के नाम पर रखा गया है जो चट्टानों से नीचे बहती हैं और इस प्रकार एक दिलचस्प दृश्य उत्पन्न करती हैं। नोहसंगिथियांग जलप्रपात के साथ एक जीर्णोद्धार नदी होती है जो चट्टानों के बीच से बहती है और आसपास के चारों ओर हरे-भरे मैदान होते हैं। इस जलप्रपात को देखने के लिए पर्यटक इस जगह पर आते हैं। इस जलप्रपात का दृश्य भव्य होता है, जिसे देखने के लिए कई लोग यहां जाते हैं। इस जलप्रपात को देखने के लिए, यात्री एक घाटी से जाते हैं, जो एक प्राकृतिक मार्ग होता है। यह जलप्रपात मौसम के अनुसार अलग-अलग रंगों में दिखता है। शीतकाल में, यह जलप्रपात बड़े सफेद बर्फ से ढंका होता है जो एक भव्य दृश्य प्रदान करता है।

बाल्पाक्रम राष्ट्रीय उद्यान – Balpakram National Park, Meghalaya

बाल्पाक्रम राष्ट्रीय उद्यान भारत के मेघालय राज्य में स्थित है। यह उद्यान मेघालय के सबसे बड़े नेशनल पार्कों में से एक है और एक बहुमुखी वन्यजीव संरक्षण क्षेत्र है। इस उद्यान की स्थापना सन् 1986 में हुई थी। बाल्पाक्रम राष्ट्रीय उद्यान में जंगल, नदियाँ, पहाड़ और जगहों के बीच का अनोखा संगम होता है। यहाँ विभिन्न प्रकार के प्राणी जैसे गाय, साँभर, हिरण, सिंह, बाघ, तेंदुआ, लेपर्ड और बंदर मिलते हैं। इसके अलावा, बाल्पाक्रम राष्ट्रीय उद्यान में कई प्रकार के पक्षी, मछली, अम्फिबियन और रेंगने वाले जीव भी पाए जाते हैं।

खासी पहाड़ियों – Khasi Hills, Meghalaya

खासी पहाड़ियों के बारे में बात करते हुए, हम असम, बंगाल और मेघालय राज्यों में स्थित यह शैली पहाड़ियों के बारे में बात कर रहे हैं। यह पहाड़ी क्षेत्र खासकर मेघालय राज्य के पूर्वोत्तर क्षेत्र में स्थित है। इस क्षेत्र में कई छोटे-छोटे गांव और शहर हैं जो इसके आस-पास फैले हुए हैं। 

लेडी हाइडारी पार्क – Lady Hydari Park, Meghalaya

लेडी हाइडारी पार्क शिलांग का एक खूबसूरत पार्क है जो शहर के मध्य में स्थित है। यह पार्क मेघालय के आदिवासी राजकुमारी लेडी सुलेखा हाइडारी के नाम पर रखा गया है। इस पार्क का विस्तार लगभग 1 एकड़ है और इसमें अनेक प्रकार के फूल, पेड़ और झाड़ियां होती हैं। यहाँ ट्रेल वॉक और रिफ्लेक्शन पॉइंट जैसे कई रोमांचक विकल्प हैं जहाँ आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिता सकते हैं। 

डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज – Double Decker Living Root Bridge

मेघालय का एक ऐसा स्थान है, जो प्रकृति के लिए जाना जाता है। वहाँ पर अनेक सुंदर जगह हैं, जो दर्शनीय होते हैं। इनमें से एक जगह है “डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज” जो कि प्रकृति की खूबसूरती का नमूना है। यह जगह मेघालय के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है और इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसे देखने के लिए लोग दुनिया भर से आते हैं।

दॉन बॉस्को म्यूजियम – Don Bosco Museum Meghalaya

मेघालय एक ऐसा स्थान है, जो अपनी स्वच्छता और प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। वहाँ पर अनेक सुंदर जगह हैं, जो दर्शनीय होते हैं। इनमें से एक जगह है “दॉन बॉस्को म्यूजियम” जो कि मेघालय के सबसे अनोखे म्यूजियम में से एक है। यह स्थान शिलांग में स्थित है और यह एक बहुत ही विस्तृत म्यूजियम है। यहाँ पर आपको बहुत सारे विभिन्न विषयों के बारे में जानकारी मिलती है। आप यहाँ पर विभिन्न विषयों से जुड़ी चीजों को देख सकते हैं जैसे कि स्थानीय लोगों की रीति-रिवाज, उनके रोचक संग्रह, स्थान के इतिहास के बारे में जानकारी, उनकी भाषा और संस्कृति आदि।
 

FAQ (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल):-

मेघालय यात्रा करने का सबसे अच्छा समय?

मेघालय की मौसम की बात करें तो यहाँ पर मानसूनी जलवायु होती है, जिसका असर अक्सर अप्रैल से शुरू होता है और सितंबर तक रहता है। इस दौरान बहुत अधिक वर्षा होती है जो आपके सैलानी के अनुभव को प्रभावित कर सकती है। इस दौरान पहाड़ों में खूब घास उगती है जो यात्रियों के लिए एक सुंदर नजारा पेश करती है। यदि आप बारिश नहीं चाहते हैं तो अक्टूबर से फरवरी तक का समय आपके लिए सबसे अच्छा हो सकता है। इस समय यहाँ पर साफ आसमान और ठंडी हवाओं का आनंद लेने के लिए सबसे अच्छा समय होता है।

मेघालय में क्या क्या फेमस है?

मेघालय अपने प्राकृतिक सुंदरता, समृद्ध संस्कृति और विविध वनस्पतियों और जीवों के लिए जाना जाता है। मेघालय में कई लोकप्रिय पर्यटन स्थल हैं, जिनमें शामिल हैं: चेरापूंजी, नोहकालीकाई झरना, एमराल्ड झरना, उमियम झील, मावफलांग सैक्रेड फ़ॉरेस्ट, मावसिनराम इत्यादि |

मेघालय घूमने के लिए कितने दिन चाहिए?

घालय घूमने के लिए कम से कम 3 दिन चाहिए। 3 दिनों में आप मेघालय के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों को देख सकते हैं, जिनमें चेरापूंजी, नोहकालीकाई झरना, एमराल्ड झरना, उमियम झील, और मावफलांग सैक्रेड फ़ॉरेस्ट शामिल हैं। यदि आप मेघालय में अधिक समय बिताना चाहते हैं, तो आप 4 या 5 दिन भी रह सकते हैं। इससे आपको राज्य के अन्य आकर्षणों को भी देखने का समय मिलेगा, जैसे कि मावसिनराम, क्रेम लियाट प्रा गुफा, और सायन्रियांग पामियंग गुफा।

मेघालय के लोग क्या खाना खाते हैं?

मेघालय के लोग अपने मसालेदार व्यंजनों के लिए जाने जाते हैं। मेघालयी भोजन आमतौर पर चावल, मांस, मछली और सब्जियों से बना होता है। मेघालय के सबसे लोकप्रिय व्यंजनों में से कुछ में शामिल हैं: जदोह, पुमालोई, तुंग-रायमबाई, की कुपु, बांस के अंकुर का अचार इत्यादि |

मेघालय पर्यटन के लिए प्रसिद्ध क्यों है?

मेघालय अपने प्राकृतिक सुंदरता, समृद्ध संस्कृति और विविध वनस्पतियों और जीवों के लिए पर्यटन के लिए प्रसिद्ध है। मेघालय में कई लोकप्रिय पर्यटन स्थल हैं, जिनमें शामिल हैं: चेरापूंजी, नोहकालीकाई झरना, एमराल्ड झरना, उमियम झील, मावफलांग सैक्रेड फ़ॉरेस्ट, मावसिनराम इत्यादि |

चेरापूंजी क्यों प्रसिद्ध है?

चेरापूंजी अपने प्राकृतिक सुंदरता और बारिश के लिए प्रसिद्ध है। चेरापूंजी को दुनिया का सबसे नम स्थान माना जाता है। यहां सालाना औसतन 467 इंच बारिश होती है। चेरापूंजी में कई खूबसूरत झरने भी हैं, जिनमें नोहकालीकाई झरना और एमराल्ड झरना शामिल हैं। 

निष्कर्ष (Discloser):

हमने अपने आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप सभी लोगों को मेघालय में घूमने की जगह ( Meghalaya Me Ghumne ki Jagah) (Meghalaya tourist Places) से सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी है और यह जानकारी अगर आपको पसंद आई है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले। आपके इस बहुमूल्य समय के लिए धन्यवाद|

अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख के सम्बन्ध में कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बताएं। हम आपके द्वारा दिए गए comment का जवाब जल्द से जल्द देने का प्रयास करेंगे और हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को अंतिम तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद |

Leave a Comment