10+ जोधपुर में घूमने की जगह – Jodhpur Tourist Places

5/5 - (1 vote)

Jodhpur Tourist Places :-जोधपुर, राजस्थान का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है. यह शहर अपनी नीली छतों के लिए जाना जाता है, जो इसे “ब्लू सिटी” के नाम से भी जाना जाता है. जोधपुर में कई ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थल हैं, जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं | आप जोधपुर में कई तरह के गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं, जैसे कि किलों और महलों का भ्रमण, झीलों में नौका विहार, खरीदारी और भोजन |

जोधपुर में घूमने लायक जगह – Places to visit in Jodhpur

जोधपुर राजस्थान राज्य में स्थित एक खुबसुरत शहर है जहाँ घुमने के लिए अनेको जगह है जहाँ आप एतेहासिक, सांस्कृतिक, धार्मिक के साथ साथ मनोरंजन के जगह देख सकते हैं | तो आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपको जोधपुर में घुमने के लिए फेमस पर्यटन स्थल कौन कौन है वो बताएँगे और वहाँ आपको जरुर जाना चाहिए |

Table of Contents

1. उम्मेद भवन पैलेस – Umaid Bhawan Palace, Jodhpur Tourist places

उम्मेद भवन पैलेस, जोधपुर शहर के पहाड़ पर अवस्थित एक विशाल महल है | यह दुनिया के सबसे बड़े निजी निवासों में से एक है और इसका निर्माण 1929 से 1943 तक हुआ था. इस महल का निर्माण महाराजा उम्मेद सिंह द्वारा करवाया

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

गया था, जिन्होंने इसे अपने लोगों को रोजगार देने और शहर की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए किया था | उम्मेद भवन पैलेस 100 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें 347 कमरे हैं. यह महल सफेद संगमरमर से बना है और इसकी वास्तुकला मुगल और इटालियन शैली का मिश्रण है. महल के अंदरूनी हिस्से भी बहुत ही सुंदर हैं और इनमें से कई कमरों में राजसी फर्नीचर और कलाकृतियां हैं | उम्मेद भवन पैलेस आज एक 5-सितारा होटल है और यह दुनिया भर के पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है. यह महल जोधपुर के सबसे प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक है और यह शहर की शान है | अगर आप जोधपुर में घूमने का प्लान बना रहे है, तो उम्मेद भवन पैलेस घुमने जरूर जाईये | यह महल आपको एक अद्भुत अनुभव देगा और आप इसे कभी नहीं भूलेंगे |

उम्मेद भवन पैलेस घूमने के लिए कुछ सुझाव- Jodhpur tour Guide

• महल का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• उम्मेद भवन पैलेस में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 100 रुपये और विदेशियों के लिए 500 रुपये है.
• महल में एक कैफेटेरिया और एक रेस्तरां है, जहां आप राजस्थानी व्यंजन का स्वाद ले सकते हैं.
• महल के आसपास एक सुंदर उद्यान है, जहां आप टहल सकते हैं या बैठ कर आराम कर सकते हैं.
उम्मेद भवन पैलेस एक अद्भुत महल है, जो आपको एक अविस्मरणीय अनुभव देगा. अगर आप जोधपुर घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो इस महल को जरूर देखें.

2. मेहरानगढ़ किला, जोधपुर – Mehrangarh Fort, Jodhpur Tour

मेहरानगढ़ किला, जोधपुर का सबसे प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. मेहरानगढ़ किला 1459 मे राव जोधा द्वारा बनवाया गया था और यह जोधपुर शहर के ऊपरी भाग में स्थित है. किले की ऊंचाई 410 फीट है और यह 10 किमी के क्षेत्र में फैला हुआ

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

है. किले में 925 कमरे हैं और यह एक विशाल संग्रहालय भी है | मेहरानगढ़ किला अपनी वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है. किले की दीवारें 20 फीट मोटी और 150 फीट ऊंची हैं. किले में कई महल, मंदिर, बाग और तालाब हैं. किले के मुख्य द्वार जो “सोने का दरवाजा” के नाम से जाना जाता है. यह दरवाजा सोने की पन्नी से ढका हुआ है और यह किले की सबसे सुंदर इमारतों में से एक है | मेहरानगढ़ किला एक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहर है. यह किला राजस्थान के इतिहास और संस्कृति को दर्शाता है. किले में कई ऐतिहासिक घटनाएं हुई हैं और यह किला आज भी राजस्थान के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान है | मेहरानगढ़ किला जोधपुर के सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में से एक है. यह किला लाखों पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है. अगर आप जोधपुर घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो मेहरानगढ़ किले को जरूर देखें |

मेहरानगढ़ किले घूमने के लिए कुछ सुझाव –  Jodhpur tourist guide

• मेहरानगढ़ किला घुमने का समय सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• किले में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 50 रुपये और विदेशियों के लिए 250 रुपये है.
• मेहरानगढ़ किला में एक संग्रहालय है, जहां आप राजस्थान के इतिहास और संस्कृति के बारे में जान सकते हैं.
• किले के आसपास एक सुंदर उद्यान है, जहां आप टहल सकते हैं या बैठ कर आराम कर सकते हैं.
मेहरानगढ़ किला एक अद्भुत किला है, जो आपको एक अविस्मरणीय अनुभव देगा. अगर आप जोधपुर में घूमने का प्लान बना रहे है, तो मेहरानगढ़ किला घुमने जरूर जाईये

3. जसवंत थड़ा – Jaswant Thada Jodhpur, Jodhpur tourism

जसवंत थड़ा, जोधपुर का एक प्रसिद्ध स्मारक है जो जोधपुर में घुमने के लिए खास है | यह स्मारक सफेद संगमरमर से बना हुवा है और यह मेहरानगढ़ किले के पास में ही स्थित है. यह स्मारक महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय की याद में

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

बनाया गया था, जो 1895 में 38 वर्ष की आयु में अकाल से मर गए थे | जसवंत थड़ा एक अत्यंत सुंदर स्मारक है. यह स्मारक एक मंडप के आकार का है और इसमें एक बड़ी छतरी है. स्मारक के चारों ओर एक बगीचा है, जो इसे और अधिक सुंदर बनाता है | जसवंत थड़ा एक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहर है. यह स्मारक राजस्थान के इतिहास और संस्कृति को दर्शाता है. यह स्मारक लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है | अगर आप जोधपुर घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो जसवंत थड़ा को जरूर देखिये |

जसवंत थड़ा घूमने के लिए कुछ सुझाव – Jodhpur tour

• स्मारक का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• स्मारक में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• स्मारक के आसपास एक सुंदर बगीचा है, जहां आप टहल सकते हैं या बैठ कर आराम कर सकते हैं.

4. घण्टाघर, जोधपुर – Ghanta Ghar, Jodhpur Travel

घण्टाघर, जोधपुर का एक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थल है जो जोधपुर में घुमने कि जगह में काफी फेमस है | यह एक विशाल घण्टाघर है, जो जोधपुर के पुराने शहर में स्थित है. यह घण्टाघर 1898 में महाराजा सरदार सिंह ने बनवाया था | घण्टाघर एक चार मंजिला इमारत है. इसकी ऊंचाई 100 फीट है. घण्टाघर का निर्माण लाल बलुआ पत्थर से किया

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

गया है. इसकी छत पर एक विशाल घण्टा है, जो हर घंटे बजता है | घण्टाघर एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है. यहाँ हर साल लाखों पर्यटक आते हैं. घण्टाघर से जोधपुर का पुराना शहर और मेहरानगढ़ किला का सुंदर दृश्य दिखाई देता है | घण्टाघर के पास ही एक बाजार है, जहाँ आप राजस्थानी हस्तशिल्प और अन्य वस्तुएँ खरीद सकते हैं. घण्टाघर के पास ही एक पार्क भी है, जहाँ आप आराम कर सकते हैं और शहर का दृश्य देख सकते हैं | घण्टाघर एक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थल है, जो जोधपुर के इतिहास और संस्कृति को दर्शाता है. यह एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है, जो आपको एक अद्भुत अनुभव देगा |

घण्टाघर घूमने के लिए कुछ सुझाव –  jodhpur tour

• घण्टाघर का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• यहाँ प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• घण्टाघर के पास ही एक बाजार है, जहाँ आप राजस्थानी हस्तशिल्प और अन्य वस्तुएँ खरीद सकते हैं.
• घण्टाघर के पास ही एक पार्क भी है, जहाँ आप आराम कर सकते हैं और शहर का दृश्य देख सकते हैं.

5. मंडोर गार्डन, जोधपुर – Mandore Garden, Jodhpur blue city of india

मंडोर गार्डन, जोधपुर में घुमने के लिए एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. यह गार्डन जोधपुर शहर से 10 किलोमीटर दूर स्थित है. यह गार्डन 15वीं शताब्दी में राठौड़ राजपूतों द्वारा बनाया गया था | मंडोर गार्डन एक विशाल गार्डन है, जिसमें कई तरह के फूल, पेड़ और पौधे हैं. इस गार्डन में एक झील भी है, जो इसकी सुंदरता को और बढ़ाती है |मंडोर गार्डन एक

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

शांतिपूर्ण और सुंदर जगह है, जहां आप आराम कर सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं. इस गार्डन में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल भी हैं, जैसे कि जैन मंदिर, रावणा का मंदिर और मोती महल | मंडोर गार्डन एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है, जो हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है. यह गार्डन एक ऐसी जगह है, जहां आप इतिहास, संस्कृति और प्रकृति का आनंद एक साथ ले सकते हैं |

मंडोर गार्डन घूमने के लिए कुछ सुझाव – jodhpur tourism guide

• मंडोर गार्डन का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• मंडोर गार्डन में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• मंडोर गार्डन में एक झील है, जहां आप बोटिंग का आनंद ले सकते हैं.
• मंडोर गार्डन में कई तरह के फूल, पेड़ और पौधे हैं, जिनका आप आनंद ले सकते हैं.
• मंडोर गार्डन में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल हैं, जिनका आप अवलोकन कर सकते हैं.

6. राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क, जोधपुर – Rao Jodha Desert Rock Park Jodhpur

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क, जोधपुर का एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. यह पार्क जोधपुर शहर के मेहरानगढ़ किले के पास स्थित है. यह पार्क 284 बिघा में फैला हुआ है और इसमें पारिस्थितिक रूप से बहाल रेगिस्तान और शुष्क भूमि वनस्पति शामिल हैं | पार्क का निर्माण 2006 में किया गया था ताकि मेहरानगढ़ किले के नीचे एक बड़े चट्टानी क्षेत्र के प्राकृतिक

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

पारिस्थितिकी को बहाल किया जा सके. पार्क में विभिन्न प्रकार के पौधे हैं, जिनमें कैक्टि, झाड़ियाँ और घास शामिल हैं. पार्क में कई प्रकार के जानवर भी हैं, जिनमें गिलहरी, खरगोश और सांप शामिल हैं | राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क एक शांतिपूर्ण और प्राकृतिक जगह है, जहां आप आराम कर सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं. पार्क में कई तरह के गतिविधियां भी हैं, जिनमें जंगल सफारी, टहलना और पिकनिक शामिल हैं | राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है, जो हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है. यह पार्क एक ऐसी जगह है, जहां आप इतिहास, संस्कृति और प्रकृति का आनंद एक साथ ले सकते हैं |

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क घूमने के लिए कुछ सुझाव:

• पार्क का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• यहाँ प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• पार्क में एक जंगल सफारी है, जो आपको पार्क के प्राकृतिक और वन्यजीवों के बारे में जानने का अवसर देती है.
• पार्क में कई तरह के ट्रेल्स हैं, जहां आप टहल सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं.
• पार्क में एक पिकनिक स्पॉट है, जहां आप परिवार और दोस्तों के साथ पिकनिक का आनंद ले सकते हैं.

7. बालसमंद झील जोधपुर – Bal Samand Lake, tourist attractions in jodhpur

बालसमंद झील जोधपुर, राजस्थान का एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. यह झील जोधपुर शहर से 15 किमी दूर स्थित है. यह झील 12वीं शताब्दी में महाराजा जसवंत सिंह ने बनवाई थी | बालसमंद झील एक कृत्रिम झील है, जो 17 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैली हुई है. यह झील चारों तरफ से पहाड़ से घिरा हुवा है. झील का पानी स्वच्छ और निर्मल है. झील में कई तरह

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

के पक्षी भी रहते हैं, जिनमें सारस, बत्तख और कबूतर शामिल हैं | बालसमंद झील एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है. यह झील हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करती है. पर्यटक झील में नौका विहार, मछली पकड़ना और पक्षी watching का आनंद लेते हैं | बालसमंद झील एक शांतिपूर्ण और प्राकृतिक जगह है, जहां आप आराम कर सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं. झील के चारों ओर एक पार्क है, जहां आप टहल सकते हैं और पिकनिक का आनंद ले सकते हैं |

बालसमंद झील घूमने के लिए कुछ सुझाव:

• झील का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• झील में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• झील में नौका विहार का आनंद लें.
• मछली पकड़ना का आनंद लें.
• पक्षी watching का आनंद लें.
• झील के चारों ओर के पार्क में टहलें और पिकनिक का आनंद लें.

8. कायलाना झील, जोधपुर – Kaylana Lake, jodhpur tourist spot

कायलाना झील, जोधपुर, राजस्थान का एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. यह झील जोधपुर शहर से लगभग 12 किमी दूर स्थित है. यह झील 19वीं शताब्दी में महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय ने बनवाई थी | कायलाना झील एक कृत्रिम झील है, जो 16 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैली हुई है. यह झील चारों ओर से पहाड़ियों से घिरी हुई है. झील का पानी स्वच्छ और निर्मल है.

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

झील में कई तरह के पक्षी भी रहते हैं, जिनमें सारस, बत्तख और कबूतर शामिल हैं | कायलाना झील एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है. यह झील हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करती है. पर्यटक झील में नौका विहार, मछली पकड़ना और पक्षी watching का आनंद लेते हैं | कायलाना झील एक शांतिपूर्ण और प्राकृतिक जगह है, जहां आप आराम कर सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं. झील के चारों ओर एक पार्क है, जहां आप टहल सकते हैं और पिकनिक का आनंद ले सकते हैं |

कायलाना झील घूमने के लिए कुछ सुझाव:

• झील का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• झील में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• झील में नौका विहार का आनंद लें.
• मछली पकड़ना का आनंद लें.
• पक्षी watching का आनंद लें.
• झील के चारों ओर के पार्क में टहलें और पिकनिक का आनंद लें.

9. टोरी का झालरा बावड़ी जोधपुर – Toorji Ka Jhalra Bavdi Jodhpur

टोरी का झालरा बावड़ी भी जोधपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है. यह बावड़ी जोधपुर शहर से लगभग 15 किलोमीटर दूर स्थित है | टोरी का झालरा बावड़ी एक प्राचीन बावड़ी है, जो 18वीं शताब्दी में बनाई गई थी. यह बावड़ी एक विशाल वास्तुशिल्पीय संरचना है, जो सफेद संगमरमर से बनी है. बावड़ी में एक विशाल कुआं है, जो 100 फीट गहरा

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

है. बावड़ी के चारों ओर एक सुंदर बगीचा है, जो इसे और अधिक आकर्षक बनाता है | टोरी का झालरा बावड़ी एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है. यह बावड़ी हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करती है. पर्यटक बावड़ी के ऐतिहासिक महत्व और सुंदरता को देखकर मंत्रमुग्ध हो जाते हैं | यदि आप जोधपुर घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो टोरी का झालरा बावड़ी को अवश्य देखें. यह बावड़ी आपको एक अद्भुत अनुभव देगी |

टोरी का झालरा बावड़ी घूमने के लिए कुछ सुझाव:

• बावड़ी का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• बावड़ी में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• बावड़ी के चारों ओर के बगीचे में टहलें और प्रकृति का आनंद लें.
• बावड़ी के कुएं में पानी पीएं.
• बावड़ी के साथ-साथ स्थित मंदिरों और अन्य ऐतिहासिक स्थलों को भी देखें.

10. मसूरिया हिल गार्डन – Masuriya Hill Garden, jodhpur sightseeing

मसूरिया हिल गार्डन जोधपुर, राजस्थान का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है. यह गार्डन शहर के पश्चिमी छोर पर स्थित है. इस गार्डन का निर्माण 1898 में महाराजा सरदार सिंह ने करवाया था | मसूरिया हिल गार्डन एक विशाल गार्डन है, जिसमें कई तरह के फूल, पेड़ और पौधे हैं. इस गार्डन में एक झील भी है, जो इसकी सुंदरता को और बढ़ाती है | मसूरिया हिल गार्डन

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

एक शांतिपूर्ण और सुंदर जगह है, जहां आप आराम कर सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं. इस गार्डन में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल भी हैं, जैसे कि जैन मंदिर, रावणा का मंदिर और मोती महल | मसूरिया हिल गार्डन एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है, जो हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है. यह गार्डन एक ऐसी जगह है, जहां आप इतिहास, संस्कृति और प्रकृति का आनंद एक साथ ले सकते हैं |

मसूरिया हिल गार्डन घूमने के लिए कुछ सुझाव:

• गार्डन का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• गार्डन में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• पार्क में एक झील है, जहां आप बोटिंग का आनंद ले सकते हैं.
• गार्डन में कई तरह के फूल, पेड़ और पौधे हैं, जिनका आप आनंद ले सकते हैं.
• गार्डन में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल हैं, जिनका आप अवलोकन कर सकते हैं.

11. हनुमंत महल, जोधपुर – Hanwant Mahal,  jodhpur trip plan

हनुमंत महल जोधपुर, राजस्थान का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है. यह महल जोधपुर शहर के शानदार मेहरानगढ़ किले के अंदर स्थित है. यह महल 19वीं शताब्दी में महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय ने बनवाया था | हनुमान महल एक विशाल महल है, जिसमें कई तरह के सुंदर कमरे और हॉल हैं. महल के अंदर एक विशाल बगीचा भी है, जो इसे और अधिक

जोधपुर में घुमने कि जगह पर्यटन स्थल (Jodhpur me ghumne ki jagah)

आकर्षक बनाता है | हनुमान महल एक शांतिपूर्ण और सुंदर जगह है, जहां आप आराम कर सकते हैं और प्रकृति का आनंद ले सकते हैं. इस महल में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल भी हैं, जैसे कि जैन मंदिर, रावणा का मंदिर और मोती महल | हनुमान महल एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है, जो हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है. यह महल एक ऐसी जगह है, जहां आप इतिहास, संस्कृति और प्रकृति का आनंद एक साथ ले सकते हैं |

हनुमान महल घूमने के लिए कुछ सुझाव:

• महल का भ्रमण सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक किया जा सकता है.
• महल में प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए 20 रुपये और विदेशियों के लिए 100 रुपये है.
• महल के अंदर एक बगीचा है, जहां आप टहलें और प्रकृति का आनंद लें.
• महल के आसपास स्थित मंदिरों और अन्य ऐतिहासिक स्थलों को भी देखें.

FAQ (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल) :-

जोधपुर की सबसे फेमस चीज क्या है?

जोधपुर की सबसे फेमस चीज है मेहरानगढ़ किला। यह किला एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और शहर के शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। मेहरानगढ़ किला अपनी सुंदर वास्तुकला और इतिहास के लिए प्रसिद्ध है। यह किला 15वीं शताब्दी में राठौड़ शासकों द्वारा बनाया गया था। किले में कई महल, मंदिर, और संग्रहालय हैं।

मुझे जोधपुर कब जाना चाहिए?

जोधपुर घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के बीच होता है। इस दौरान मौसम सुहावना रहता है और तापमान 20 से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। इस दौरान आप शहर के सभी पर्यटन आकर्षणों को आराम से देख और घूम सकते हैं।

जयपुर से जोधपुर कितने घंटे लगते हैं?

जयपुर से जोधपुर जाने के लिए सबसे तेज़ तरीका ट्रेन है। ट्रेन से यात्रा करने में लगभग 4 घंटे 35 मिनट लगते हैं। जयपुर से जोधपुर के बीच दैनिक और साप्ताहिक आधार पर 11 ट्रेनें चलती हैं।

जोधपुर घूमने के लिए कितने दिन पर्याप्त हैं?

जोधपुर घूमने के लिए कम से कम 2 दिन पर्याप्त हैं। इन 2 दिनों में आप शहर के सभी प्रमुख पर्यटन आकर्षणों को देख और घूम सकते हैं।

जोधपुर से उदयपुर कितने घंटे का रास्ता है?

जोधपुर से उदयपुर की दूरी 325 किलोमीटर है। सड़क मार्ग से यात्रा करने में लगभग 6 घंटे लगते हैं। हवाई मार्ग से यात्रा करने में लगभग 1 घंटा लगता है।

जोधपुर को ब्लू सिटी क्यों कहा जाता है?

जोधपुर को ब्लू सिटी इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस शहर के अधिकांश घर और इमारतें नीले रंग से रंगी हुई हैं। नीला रंग इस शहर के लिए एक प्रतीक है और यह शांति और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।

जोधपुर का घर नीला क्यों होता है?

जोधपुर को नीला रंग करने का इतिहास 18वीं शताब्दी से शुरू होता है। उस समय, जोधपुर के राजा ने फैसला किया कि शहर के सभी घरों को नीला रंग से रंगा जाएगा। इस फैसले के पीछे कई कारण थे। एक कारण यह था कि नीला रंग गर्मी को दूर रखने में मदद करता है। दूसरा कारण यह था कि यह रंग शांति और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।

जोधपुर के प्रसिद्ध मंदिर

जोधपुर के प्रसिद्ध मंदिरों में से संतोषी माँ का मंदिर और ज्वाला देवी का मंदिर है जिसका दर्शन करने लोग दूर दूर से आते हैं |

जोधपुर की प्रसिद्ध मिठाई

जोधपुर की कुछ प्रसिद्ध मिठाइयाँ निम्नलिखित हैं: फीणी, गुलाब जामुन, रसगुल्ला, जिलेबी एवं लड्डू है |

निष्कर्ष (Discloser):

हमने अपने आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप सभी लोगों को जोधपुर में घूमने की जगह (Jodhpur Me Ghumne ki Jagah) (tourist places in Jodhpur) से सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी है और यह जानकारी अगर आपको पसंद आई है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले। आपके इस बहुमूल्य समय के लिए धन्यवाद|

अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख के सम्बन्ध में कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बताएं। हम आपके द्वारा दिए गए comment का जवाब जल्द से जल्द देने का प्रयास करेंगे और हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को अंतिम तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद |

इसे भी पढ़े :- जयपुर में घुमने कि जगह जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

इसे भी पढ़े :- अजमेर में घुमने कि जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

इसे भी पढ़े :- कोटा जहाँ आपको जरुर जाना चाहिए

Scroll to Top